ht.xyz

अंतर

2021-12-08

उदासी तुझमें है,
तनहाई मेरे भी अंदर है,
लोग वही है,
समय बस अलग है।
काल चक्र का
कोई जादू सा मंतर है।
कैसे बताऊं मै?
कोई अदृश्य अक्षर है।
बातें वही है,
बस शब्दों में कुछ अंतर है।

Post Comment